mona lisa real painting: Interesting Facts: ये हैं ‘मोना लिसा’ की वे 7 बातें जो इसे बनाती है सबसे चर्चित और रहस्यमयी पेंटिंग – mona lisa painting mystery and interesting facts


Mona Lisa Painting Facts: ‘मोना लिसा’ को दुनिया की सबसे रहस्‍यमयी, महंगी और चर्चित पेंटिंग माना जाता है। इस पेंटिंग के बारे में अब तक सबसे ज्यादा लिखा, पढ़ा और रिसर्च किया जा चुका है। की जा चुकी है. इस पेंटिंग को करीब 500 साल पहले मशहूर पेंटर लिओनार्दो डा विन्ची ने बनाया था, उन्होंने यह पेंटिंग 1503 में बनाना शुरू किया और 14 साल बाद यह पेंटिंग बनकर तैयार हुई। आज हम इस पेंटिंग के 7 ऐसे कारण बताएंगे, जिसके कारण इसे सबसे ज्‍यादा रहस्यमयी और चर्चित माना जाता है।

1. सिर्फ होंठ बनाने में लग गए थे 12 साल
मोना लिसा का मतलब माई लेडी होता है। यह न केवल एक पेंटिंग है बल्कि अपने आप में एक रहस्य भी है। इस तस्वीर की सबसे बड़ी खासियत है, इसकी मुस्कान। इसपर अब तक कई शोध किए जा चुके हैं। मोना लिसा पेंटिंग में बने चेहरे की मुस्कान हर कोने से अलग ही एंगल में दिखाई देती है। पहले यह काफी ज्यादा दिखाई देती है, फिर धीरे-धीरे यह फीकी पड़ने लगती है, आखिर में तो यह पूरी तरह से खत्म हो जाती है। मोनालिसा के सिर्फ होंठ बनाने के लिए ‘लिओनार्दो डा विन्ची’ को 12 साल लग गए थे।

2. मोना लिसा के लिए दी थी अपनी जान
फ्रेंस के एक आर्टिस्ट luc maspero ने 23 जून 1852 को पेरिस के होटल की छत से कूद कर अपनी जान दे दी। वह मोना लिसा की रहस्यमय मुस्कान व सुंदरता के लिए पागल था। उसने अपने सूसाइड नोट में लिखा था कि वह मोनालिसा के प्यार में पागल है। इतना ही नही म्यूजियम में इस पेटिंग को कई लव लेटर, फ्लावर भी मिलते है। मोना के प्यार में पागल लोग इसके आगे अपने लव लेटर छोड़ कर जाते है।
इसे भी पढ़ें:
GK Questions: क्या आप जानते हैं भारत रत्न प्राप्त करने वाली पहली महिला कौन थीं? यहां जानें जीके अपडेट

3. 14 साल में बनी थी पेंटिंग
इस पेंटिंग को बनाने में लिओनार्दो डा विन्ची को 14 साल लग गए थे। उन्होंने 1503 में इसे बनाना शुरु किया और 1517 में इसे पूरा किया। इस पेंटिंग को बनाने के लिए 30 से भी ज्यादा लेयर्स का इस्तेमाल किया गया था। इसमें से कुछ इंसानी बाल से भी बारीक थी। पेटिंग देखने में बड़ी लगती है लेकिन यह काफी छोटी है। यह 30 बाई 21 इंच की है और इसका भार 8 किलोग्राम है। इसे पेपर व केन्वस पर नही पॉपुलर की लकड़ी पर ऑयल पेंट के साथ बनाया गया है।

4. चोरी के बाद मिली इस पेंटिंग को प्रसिद्ध
यह पेंटिंग शुरू से बहुत ज्‍यादा प्रसिद्ध नहीं थी, इसे प्रसित्र तब मिली जब रिस लुब म्यूजियम पेरिस से यह चोरी हो गई। 21 अगस्त 1911 को इतने बड़े म्यूजियम से पेंटिंग का चोरी हो जाना बहुत ही बड़ी बात थी। इसके चोरी होने के बाद पहला शक पेंटर पाब्लो पिकासो पर गया था, लेकिन उनसे पूछताछ के बाद यह इलजाम उन पर से हटा दिया गया था। काफी खोज के बाद पता लगा कि इसे म्यूजियम के ही एक कर्मचारी वर्कर विन्सेन्जो पेरुगिया ने चोरी किया था। वह इस पेंटिंग को वापिस इटली लेकर जाना चाहते थे। उनका मानना था कि यह इटली की धरोहर है। इटली में कुछ समय रखने के बाद इसे वापिस म्यूजियम में रख दिया गया था। वहीं विन्सेनजो को इसके लिए 6 महीने की सजा दी गई थी, लेकिन इटली के लोगों उन्‍हें इसके लिए देश भक्‍त मानते थे।

5. मोना लिसा की जुड़वा पेंटिंग्स भी है
माना जाता है लिओनार्दो डा विन्ची के ही एक छात्र फ्रेंसिस्को मेल्जी ने इसकी जुड़वा पेंटिंग बनाई थी। यह स्पेन की राजधानी मैड्रिड के म्यूसेओ दे प्रादों में रखी गई है। 1514 -1516 के बीच उनके ही एक स्टूडेंट ने मोना लिसा का एक न्यूड वर्जन भी बनाया था। जिसकी हाथों व बॉडी की पोजीशन असली पेंटिंग की तरह ही है। इसे मोन्ना वान्ना कहा जाता है। कहा जाता है कि शायद यह पेंटिंग भी लियो ने ही बनाई थी।
इसे भी पढ़ें: Facts About Goa: 450 सालों तक गोवा पर पुर्तगालियों ने किया शासन, 1961 में मिली आजादी

6. मोना लिसा आज भी रहस्‍य
मोना लिसा कौन महिला है, यह आज भी रहस्‍य है। लिओनार्दो डा विन्ची पेंटर होने के साथ एक लेखक भी थे, लेकिन उन्होंने कभी भी इस पेंटिंग के बारे में कुछ नहीं लिखा। न ही कभी बताया है कि यह महिला कौन है, जिसकी यह पेंटिंग बनाई गई है। कुछ रिसर्च का मानना है कि यह पेंटिंग लिस घेरार्दिनी की है जो कि फ्लोरंस की इटालियन की महिला है। वहीं कुछ लोगों का कहना है कि इस पेंटिंग में उन्होंने खुद को एक औरत के रूप में बनाया था।

7. कई बार लोगों ने की नुकसान पहुंचाने की कोशिश
जब दूसरा विश्व युद्ध चल रहा था, तब मोना लिसा की पेंटिंग को 6 बार अपनी जगह से बदला गया है। ताकि यह जर्मन लोगों के हाथ न लग जाए। इस पेंटिंग को नुकसान पहुंचाने के लिए कई बार कोशिश हो चुकी है। एक बार 1956 में एक टूरिस्ट ने इस पर पत्थर फेंका था, जिससे इसकी बाएं बाजू पर निशान पड़ गया, बाद इसे ठीक कर दिया गया। इतना ही नही एक व्यक्ति ने इस पर एसिड फेंक दिया था। उसके बाद इसे बुलेट फ्रूफ फ्रेम में रखा गया। वहीं एक महिला ने इस पर लाल स्प्रे छिड़क दिया था।



Source link

 1,561 total views,  2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *