jerusalem history: What is the conflict of Jerusalem, Israeli–Palestinian conflict explained: यरूशलम विवाद क्या है, इजरायल फलस्तीन तनाव के बारे में सबकुछ जानें


हाइलाइट्स

  • यरूशलम में अमेरिकी मिशन को लेकर भिड़े इजरायल और फलस्तीन
  • अमेरिका ने यरूशलम में राजनयिक मिशन खोलने का किया है ऐलान
  • इजरायली पीएम बोले- यरूशलम सिर्फ हमारा, नहीं देंगे इजाजत

तेल अवीव
इजरायल और फलस्तीन में यरूशलम में अमेरिकी मिशन को लेकर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। इजरायल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने साफ तौर पर कहा है कि यरूशलम पर कोई समझौता नहीं होगा। वहां अमेरिका को एक और मिशन खोलने की इजाजत नहीं दी जाएगी। वहीं, फलस्तीन ने अमेरिकी मिशन को मंजूरी नहीं देने के फैसले को लेकर इजरायल की जमकर आलोचना की है। यरूशलम को लेकर इजरायल और फलस्तीन के बीच विवाद काफी पुराना है। ये शहर यहूदी, इस्लाम और ईसाई धर्म में बेहद खास स्थान रखता है।

पीएम नफ्ताली बोले- यरूशलम सिर्फ इजरायल का
गौरतलब है कि फिर से खोले जाने के बाद अमेरिका का यह मिशन फलस्तीनियों के लिए वाशिंगटन का मुख्य राजनयिक मिशन होता। इजरायल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने शनिवार को कहा कि यरुशलम में अमेरिका के दूसरे मिशन के लिए कोई जगह नहीं है। यरुशलम एक राष्ट्र की राजधानी है और वह राष्ट्र इजरायल है।

फलस्तीन को लेकर जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल और इजरायली पीएम नफ्ताली बेनेट में भिड़ंत
ट्रंप प्रशासन ने बंद किया था यरूशलम में अमेरिकी मिशन
ट्रंप प्रशासन ने यरुशलम में अमेरिकी मिशन को बंद कर दिया था। यह मिशन फलस्तीन में दूतावास की तरह काम करता था। विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने इस मिशन को फिर से खोलने का वादा किया था, वहीं इस घोषणा पर इजराइल ने कहा था कि यह शहर पर उसकी सम्प्रभुता को चुनौती देगा। ट्रंप प्रशासन के दौरान फलस्तीन के साथ खराब हुए संबंध मिशन के खुलने के फिर सुधर सकते हैं।

Yahya Sinwar: कौन है गाजा में हमास चीफ याह्या सिनवार, इजरायल ने जिसका घर किया जमींदोज
इजरायल पर जमकर बरसा फलस्तीन
फलस्तीन के विदेश मंत्रालय द्वारा जारी बयान के अनुसार, उसकी नजर में इस मिशन का फिर से खुलना फलस्तीन के भविष्य के राष्ट्र के तौर पर इजरायल के दशकों लंबे कब्जे को समाप्त करने का अंतरराष्ट्रीय समुदाय के वादे का हिस्सा है। बयान में यह भी कहा गया है कि पूर्वी यरुशलम कब्जाई गई फलस्तीनी सीमा का अभिन्न अंग है और यह फलस्तीन राज्य की राजधानी है। उसपर कब्जा करने वाले इजरायल को अमेरिका के प्रशासनिक फैसले पर वीटो करने का अधिकार नहीं है।

इजरायल के पास ईरान पर हमला करने की पूरी क्षमता, लेकिन…. पूर्व इंटेलिजेंस चीफ ने क्यों दी चेतावनी?
इजरायली विदेश मंत्री ने अमेरिका को दी सलाह
इजराइल के विदेश मंत्री यैर लापिद ने सलाह दी कि मिशन फलस्तीनी प्रशासन में आने वाले वेस्ट बैंक के रामल्ला में खोला जा सकता है। वहीं, इजराइल यरुशलम में अपना शास्वत, अविभाज्य राजधानी मानता है। फलस्तीनी 1967 में कथित तौर पर इजराइल द्वारा कब्जाए गए पूर्वी यरुशलम को पाना चाहता है और उसे भविष्य में अपने राष्ट्र की राजधानी बनाने की आशा रखता है।

(एजेंसी से इनपुट के साथ)

jerusalem 011

यरूशलम पर इजरायल-फलस्तीन में तनाव



Source link

 6,335 total views,  2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *