ब्लॉगः जज बनने में क्यों हिचकती हैं महिला वकील



बीते दिनों उच्च न्यायालय में जजों की नियुक्ति से जुड़े मामले पर सुनवाई करते हुए देश के तत्कालीन चीफ जस्टिस एस ए बोबड़े ने कहा था, ‘महिला वकील अक्सर अपनी घरेलू, पारिवारिक जिम्मेदारियों के चलते जज बनने से कतराती हैं।’ क्या यह पूर्ण सत्य है? क्या वाकई महिला वकील महत्वपूर्ण दायित्व लेने से सिर्फ इसलिए परहेज करती हैं कि उन्हें अपने पारिवारिक दायित्वों को प्राथमिकता देनी है?



Source link

 27 total views,  2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *